Stop Overthinking!!!

on

Hello , कल काम बहुत ज़्यादा था इसलिए कुछ लिखा नहीं सोचा कल लिखूंगा और इसी सोचने में समझ में आया की आज कल लोग बहुत ज़्यादा सोचते है जिसे हमें Overthinking कहते है। मुझे आज तक overthinking का funda समझ नहीं आया, अरे भाई किसी ऐसी चीज़ के बारे में क्या सोचना जो अभी तक हुई ही नहीं है और शायद कभी हो भी न। लेकिन शायद लोगों को मज़ा आता है ख़याली पुलाव बनाने में पर यह पुलाव कभी कभी इतना पक जाता है की जलने लगता है और आप इससे अपनी सेहत ख़राब कर लेते हैं। आपको पता भी है Overthinking से कितनी बीमारियाँ होती है जिसमे से सबसे बड़ा नाम है Depression, Anxiety !!

Depression और Anxiety, Overthinking के product ही तो है। क्यूंकि आप एक चीज़ के बारे में सोच सोच कर इतना डर जाते है की कुछ कर ही नहीं पाते, दिल की धड़कने बढ़ने लगती है और दिमाग सुन्न पड़ जाता है। शुरुआत में Overthinking समझ में नहीं आती, हम बस एक बात सोचते है और उससे कड़ियाँ जुड़ती चली जाती है, ऐसी कड़ियाँ जिनका हक़ीक़त में कोई वज़ूद नहीं है। मैं अगर आपको मेरा अनुभव बताऊ तो Overthinking करके कोई फायदा नहीं है। इससे किसी समस्या का कोई समाधान नहीं निकलता और दिमाग समाधान ढूंढने के लिए है , समस्या बनाने के लिए नहीं।

वैसे तो मैंने Overthinking से बचने के उपाय जानने के लिए Google किया था लेकिन मैं यहाँ आपको वो Tips नहीं बताऊंगा। मैं आपको अपने दोस्त, भाई या बहन की तरह ये समझना चाहूंगा की यार बिना मलतब की चीज़ों के बारे में सोच कर कोई फायदा नहीं है। परीक्षा में पास होंगे या नहीं, नौकरी अच्छी मिलेगी या नहीं, लड़की प्रपोज़ल एक्सेप्ट करेगी या नहीं और शादी के बाद खुश रहेंगे या नहीं ये सब सोच कर कुछ नहीं मिलेगा। आप भविष्य को plan कर सकते है उसके लिए prepare हो सकते है लेकिन भविष्य की एक एक बात पर आपका नियंत्रण नहीं है और इसे समझिये।

मैं, खुद कई बार सोचता हूँ की जैसा मैंने आपने भविष्य के बारे में सोचा है क्या वो सब होगा?

क्या मैं ख़ुश रहूँगा?

क्या मैं करोड़पति, अरबपति खरबपति बनूंगा?

क्या मेरी सेहत ठीक रहेगी?

हाँ, मैं यह सब सोचता हूँ लेकिन Overthink नहीं करता क्यूंकि इन सब बातों पर मेरा control नहीं है। मैं अपने भविष्य के लिए तैयारी कर सकता हूँ, उसके लिए तैयार रह सकता हूँ पर control नहीं कर सकता। Overthinking सिर्फ परेशान करेगी बस!!!

चलिए ख़तम करने से पहले आपको बताता हूँ की आप Overthinking को कैसे कम कर सकते है या पूरी तरह से रोक सकते है –

1) सबसे पहले तो अगर आपको मालूम है की आप overthink करते है तो यह अच्छी बात है क्यूंकि कम से कम आपको problem तो मालूम है। अब इसे रोकने या कम करने के लिए सिर्फ इतना करे की जो बातें आप सोच रहे है उन पर ध्यान दे और जब लगे की आपने कुछ ज़्यादा ही सोच लिया तो अपनी position change करें। यानी लेटे है तो बैठ जाये, बैठे है तो टहलें या गाने सुन ले।

2) ज़्यादातर लोग सोने से पहले Overthink करते है तो इस समय का ध्यान रखे, सोने से पहले कोई क़िताब पढ़े या slow music सुने। सोने से पहले Youtube या Tiktok बिलकुल न देखे क्यूंकि इससे नींद ठीक नहीं आएगी और यह मेरे साथ हुआ है इसलिए मैं यह कह सकता हूँ।

3 ) खाली न बैठे, खाली दिमाग शैतान का घर होता है और खाली बैठ कर ही Overthinking शुरू होती है तो कोई hobby ढूंढे। Mobile पर game खेले या बच्चों के साथ रहे, Color Book में color करें लेकिन खाली न रहें।

लिखने के लिए तो मेरे मन में बहुत कुछ है लेकिन पहले इन तीन बातों को मानिये और अगर आप कुछ कहना या बताना चाहे तो comment करें।

जाने से पहले मार्टिन लूथर किंग जूनियर ने जो कहा वो ज़रूर पढ़िए –

“You don’t have to see the whole staircase, just take the first step.”
– Martin Luther King, Jr.

मुस्कुराते रहिये।

Leave a Reply