Are You Taking Health Seriously??

35 की उम्र में कमर दर्द और 40 की उम्र में घुटनो का दर्द। हफ्ते में 4 दिन सर दुखता है और ये आज की सच्चाई है। हम लोग पैसे को गंभीरता से लेते है, परिवार और उनकी ज़रूरतों को गंभीरता से लेते है यहाँ तक की राजनीती की बातों पर तो सामने वाले से लड़ जाते है लेकिन अपनी सेहत के बारे में सोचते भी नहीं। ऐसा नहीं है की आपने अपनी सेहत को कभी seriously लिया ही न हो , कॉलेज के time पर आपने सबसे बढ़िया gym join कर रखा था। छुट्टी के दिन भी टहलने जाते थे और खाने का बहुत ध्यान रखते थे लेकिन शादी के बाद जो मन किया वो खाया, जब मन किया तब खाया। Gym जाना तो दूर आप तो ज़्यादा पैदल भी नहीं चलते।

मैं आपसे एक बात जानना चाहता हूँ की जिस शरीर के साथ आपको पूरी ज़िन्दगी रहना है उसके बारे में क्यों नहीं सोचते? जिस घर में आप रहते है क्या उसके अंदर कूड़ा कचरा भरेंगे? नहीं न, तो फिर अपनी body के अंदर junk food का कचरा क्यों डालते जा रहे हो? (मैं , junk food खाने के ख़िलाफ़ नहीं हूँ लेकिन हफ्ते में 6 बार खाने के ख़िलाफ़ हूँ। ) अगर आपका social circle ऐसा है जिससे आपकी सेहत पर असर पड़ रहा है तो गोली मारिये ऐसे social circle को। कल को जब आप अस्पताल में admit होंगे तो social circle आपके बच्चों को पालेगा? उनकी education का ख़र्च उठाएगा या उनकी parents teacher meeting में जायेगा? नहीं न। तो फिर क्यों ऐसे लोगो के लिए ज़िन्दगी भर का risk ले रहे है ?

देखिये मैं मानता हूँ की जवानी के दिनों में आप एक large pizza पूरा खा जाते थे और वज़न टस से मस नहीं होता था लेकिन अब वो हालात नहीं है। अब आपके अंदर का system धीमा हो गया है। और पता है वो धीमा क्यों हुआ? क्यूंकि आपने कोई कसरत ही नहीं की बस pizza खाया , समोसा खाया, noodles खाये, cold drink पि और गुलाब जामुन खाये लेकिन exercise न, बिलकुल नहीं।

Health या Fitness का मतलब यह नहीं है की आपके Six Pack Abs हो क्यूंकि जिनके होते है वो सेहतमंद हो यह बिलकुल ज़रूरी नहीं। Health का मतलब है की आप पौष्टिक खाना खाये, चले फिर और active lifestyle को अपनाये। मैं अभी आपको अपना diet plan नहीं बताने वाला हूँ, मैं तो बस यह कह रहा हूँ की अपनी सेहत का ध्यान रखिये और इस तिब्बतिन कहावत को हमेशा याद रखिये –

ज़्यादा और अच्छा जीने के लिए –

आधा खाइये

दुगना चलिए

तीन गुना खुल कर हसिए

और

बेइंतेह प्यार कीजिये

पैसे से दवाइयाँ ख़रीदी जा सकती है, अच्छी सेहत नहीं।

One Comment Add yours

  1. Laxmi Awasthi says:

    👌✌🙏

Leave a Reply